मोदी के 7 दिन: देखती रह जाएगी पूरी दुनिया शुरू हो रहा ‘वंदे भारत मिशन’

नई दिल्ली। महामारी को रोकने और चैन तोड़ने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के कारण खाड़ी देशों और दुनियाभर में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कई मिशन चला रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने विदेशों से भारतीयों को भारत देश लाने के लिए वंदे भारत मिशन और सेतु समुद्र मिशन चलाए है। इस मिशन में सेतु समुद्र मिशन को पूरा करने के कल ही भारतीय नौसेना के जलपोत ‘जलअश्व’ और ‘मगर’ मॉलदीव के माले बंदरगाह के लिए निकल चुके हैं।



‘वंदे भारत मिशन’

दुनियाभर में खाड़ी देशों, मलेशिया, ब्रिटेन ओर अमेरिका से भारतीयों को अपने देश लाने के लिए विभिन्न एजेंसियों वाले अभियान का नाम ‘वंदे भारत मिशन’ दिया गया गया।
इसके चलते सरकारी विमानन कंपनी एअर इंडिया ने 13 मई तक गैर-अनुसूचित वाणिज्यिक उड़ानों का परिचालन किया जाएगा और 12 देशों से लगभग 15 हजार भारतीयों को वापस अपने देश लाया जाएगा।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, ‘वंदे भारत मिशन में प्राथमिकता वाले यात्रियों की सूची एअर इंडिया को सौंप दी गई है। प्रत्येक यात्री को टिकट प्राप्त करने के लिए कॉल और ई-मेल की सहायता से एअर इंडिया से संपर्क करके सूचित किया जाएगा।


एअर इंडिया की 64 उड़ानों का परिचालन

वहीं राज्य से आवेदकों की सबसे अधिक संख्या होने के चलते गुरुवार की पहली दो उड़ानें केरल के लिए होंगी।’ इसके तहत 7 मई से एअर इंडिया की 64 उड़ानों का परिचालन होगा।मोदी सरकार कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण और विदेशों की हालत देखते हुए विदेशों में फंसे भारतीयों पर नजर बनाए हुए हैं। केंद्र सरकार ने नौसेना को समुद्र के रास्ते से भारतीय नागरिकों को लाने का टास्क दिया गया है।

8 मई को पहले स्टेप में भारतीयों को वापस लाएंगे

वहीं मालदीव में उन भारतीयों की सूची तैयार की जा रही है जो नौसेना के जहाज से वापस भारत आने हैं। साथ ही मेडिकल स्क्रीनिंग का भी बंदोबस्त किया जा रहा है।
और भारतीय नौसेना ने ऑपरेशन ‘समुद्र सेतु’ लांच करते हुए 2 पोत को मालदीव की राजधानी माले में फंसे भारतीयों को लाने के लिए रवाना किये, जो 8 मई को पहले स्टेप में भारतीयों को वापस लाएंगे।
भारतीय नौसेना की विज्ञप्ति के अनुसार, पहले स्टेप में आईएनएस जलाश्व और आईएनएस मगर के तहत 1000 लोगों को वापस लाने का प्लान है। सबसे पहले इन्हें कोच्चि तक लाया जाएगा। फिर आगे की व्यवस्था की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *